अमेरिका के गुरुद्वारे में ग्रंथी के साथ मारपीट

0
20
sikhattackamerica

वाशिंगटन: अमेरिका में नस्ली हिंसा का एक मामला सामने आया है। कैलिफोर्निया के एक गुरुद्वारे के ग्रंथी के साथ एक व्यक्ति ने मारपीट की और उन्हें अपने देश वापिस जाने के लिए कहा। पुलिस ने मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी है। यह गुरुद्वारा कैलिफोर्निया के मोडेस्टो शहर में स्थित है।

मारपीट का शिकार हुए ग्रंथी अमरजीत सिंह ने कहा कि हमलावर खिड़की में लगा शीशा तोड़कर गुरुद्वारा परिसर में बने उसके घर में दाखिल हो गया और उसके साथ मारपीट की और उसको अपने देश वापिस जाने के लिए कहा। हमलावर ने अपने चेहरे पर मास्क लगाया हुआ था। मोडेस्टो शहर के एक अधिकारी मनी ग्रेवाल ने इस हमले को नस्ली हिंसा करार दिया है। ग्रेवाल गुरुद्वारा कमेटी के सदस्य भी हैं। ग्रेवाल ने कहा कि पिछले कुछ समय से सिखों के खिलाफ नफरती हिंसा के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हुई है।

इस मामले की जांच शुरू करते हुए स्थानीय पुलिस अधिकारी ने कहा है कि अभी इस मामले में यह कहना बहुत मुश्किल है कि यह नस्ली हिंसा का मामला है। कांग्रेस के सदस्य जोश हार्डर ने ग्रंथी अमरजीत सिंह पर हुए इस हमले की निंदा करते हुए कहा है कि वह इस समय सिखों के साथ खड़े हैं। अमेरिका में हर किसी व्यक्ति को अपने धर्म के अनुसार रहने का पूरा अधिकार है। एक नस्ली हमला अमेरिका में रहने वाले सभी लोगों की पहचान नहीं है। उन्होंने कहा कि इस हमलावर को सख्त सजा मिलनी चाहिए।

सिखों ने अमेरिका के विकास में बहुत योगदान दिया है। अमेरिका में अपनी मेहनत के दम पर सिखों ने कई उच्च पद हासिल किए हैं, लेकिन फिर भी सिखों के खिलाफ ऐसे हमले होना गंभीर चिंता का विषय है।