खुश रहना है तो पार्क में जरूर जाए…

0
51

एक अध्‍ययन में पाया गया है कि, पार्क में महज 20 मिनट का समय बिताने से तनाव का स्‍तर कम होता है खुश रहने की संभावना बढ़ जाती है, चाहे आप एक्‍सरसाइज करें या न करें।

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ इनवॉयरमेंटल हेल्‍थ रिसर्च में प्रकाशित अध्‍ययन के मुताबिक, शहरी पार्कों को प्रमुख पड़ोस स्थानों के रूप में मान्यता दी गई है जो आस-पास रहने वालों को प्रकृति का अनुभव करने और विभिन्न गतिविधियों में शामिल होने के अवसर प्रदान करते हैं।

पार्कों में स्वास्थ्य-संवर्धन, सामाजिक और मनोरंजक गतिविधियों में प्राकृतिक वातावरण से जुड़ाव व्‍यक्ति शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य लाभ जैसे कि तनाव में कमी और मानसिक थकान से उबरने का अनुभव करते हैं।

इस रिसर्च को करने का मकसद पिछले शोध निष्‍कर्षों पर मुहर लगाना था। पार्क में टहलने से होने वाले भावनात्‍मक बदलाव के संबंध में की जाने शारीरिक गतिविधि के योगदान का मूल्‍यांकन करना था।

अमेरिकन में बर्मिंघम में अलबामा यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर के यूएन के मुताबिक, कुल मिलाकर, हमने पाया कि पार्क में आने वाले लोगों ने पार्क में घूमने या वक्‍त बिताने के बाद अच्‍छी दिशा में भावनात्मक बदलाव की सूचना दी।

प्रोफेसर यूएन का कहना है कि हालांकि, हमने नहीं पाया कि शारीरिक गतिविधि के स्तर मूड चेंज में सुधार से संबंधित हैं। इसके बजाय, हमने पाया कि पार्क में बिताया गया समय बेहतर भावनात्मक भलाई से संबंधित है, इसका मतलब यह है कि संभावित रूप से सभी लोग पार्क में समय बिताने से लाभान्वित हो सकते हैं।

यदि आप उम्र बढ़ने के साथ शारीरिक गतिविधि करने में असमर्थ हैं तो आप पार्क में थोड़ी देर बैठकर भी मानसिक स्‍तर में बदलाव ला सकते हैं। इसका असर आपके पूरे शरीर पर अच्‍छा प्रभाव डालता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here