डाइट सोडा से होते हैं सेहत को ये नुकसान

0
39

डाइट सोडा दुनियाभर में सबसे ज्‍यादा सेवन किया जाने वाला मीठा पेय है। विशेषकर वे लोग पीना चाहते हैं जो अपना वजन घटाना चाहते हैं या जिन्‍हें डायबिटीज की समस्‍या है। यह स्‍टूडेंड के बीच खासा लोकप्रिय है।

इसका उत्‍पादन करने वाली कंपनियां के लिए मुख्य विक्रय बिंदु यह है कि डाइट सोडा में जीरो कैलोरी होती है, इसलिए यह समझ में आता है कि डाइट ड्रिंक्‍स के साथ रेगुलर सोडा लेने से यह वजन घटाने या मधुमेह प्रबंधन में मदद करता है।

लेकिन यह सच नहीं है! वास्तविकता यह है कि डाइट सोडा रसायनों का मिश्रण है जो स्वाद में मीठा होता है और अनिवार्य रूप से एक अच्छा ताज़ा एहसास देता है।

डाइट सोडा में आमतौर पर एस्पार्टेम, स्‍वीटनर्स, फॉस्फोरिक एसिड, कार्बोनेटेड वॉटर, कैरामेल कलर, सोडियम साइट्रेट, सोडियम बेंजोएट आदि शामिल होते हैं। डाइट सोडा की अधिकांश किस्मों में जीरो या बहुत कम कैलोरी होती है, लेकिन इनका पौष्टिक वैल्‍यू नहीं होता है। यदि आप पेट की चर्बी कम करना चाहते हैं तो डाइट सोडा या जीरो कैलोरी स्‍वीटनर्स लेने से पहले विचार करने की जरूरत है।

हाँ, आपने इसे सही सुना, डाइट सोडा वास्तव में वजन बढ़ाने का कारण बन सकता है। पोषण विशेषज्ञों का मानना है कि लोग शुरूआत में कैलोरी में कटौती करने के लिए डाइट सोडा लेना शुरू कर देते हैं लेकिन बहुत जल्द गलत भोजन पसंद करके इन कैलोरी की भरपाई करता है।

यह धारणा कि डाइट सोडा कैलोरी से मुक्त है जबकि यह लोगों को अधिक मात्रा में मीठे या कैलोरी युक्‍त खाद्य पदार्थों का सेवन करने के लिए प्रेरित करता है, जिसके परिणामस्वरूप वजन बढ़ता है। यह सुझाव दिया जाता है कि डाइट सोडा भूख हार्मोन को उत्तेजित करके भूख भी बढ़ा सकता है।

आदर्श रूप से, डाइट सोडा चीनी और वसा से मुक्त होता है, हालांकि, रिसर्च में इसे टाइप 2 डायबिटीज और हृदय रोगों के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है, जो पेट पर चर्बी भी बढ़ाते हैं। बढ़ते साक्ष्य से पता चलता है कि प्रति दिन 1-2 कप डाइट सोडा का सेवन करने से हृदय संबंधी गंभीर समस्याएं या किडनी के कार्य में गिरावट के अलावा स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं जैसे ऑस्टियोपोरोसिस, याददाश्त में कमी आदि हो सकती हैं।

शोध से पता चला है कि शुगर-फ्री सोडा पीने से आपकी मीठा खाने की तीव्र इच्‍छा हो सकती है। वास्तव में, डाइट पेय आपके दिमाग पर एक अलग प्रभाव डाल सकता है। मानव मस्तिष्क विशेष रूप से कुछ मीठा खाने के बाद अलग तरह से काम करने लगता है, लेकिन कृत्रिम स्‍वीटनर्स से मीठा खाने की इच्‍छा और बढ़ जाती है। इसलिए, यह आपको शक्करयुक्त खाद्य पदार्थों को तरसने के लिए छोड़ सकता है।

जिससे कमर पर चर्बी, उच्च रक्तचाप और उच्च रक्त शर्करा की समस्‍या हो सकती है, निष्‍कर्ष के तौर पर आप डाइट सोडा के बजाए नींबू पानी, नारियल पानी या ताजे जूस पी सकते हैं यह आपकी सेहत के लिए फायदेमंद होता है। यह वजन घटाने के साथ एनर्जी भी प्रदान करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here