तीन महीने बाद खुला गुलाबा पर्यटन स्थल

0
116

मनाली लेह मार्ग पर खड़े हुए बर्फ के ऊंचे पहाड़ को पिघलाने के लिए बीआरओ ने अपने कदम बढ़ा दिए है। मनाली लेह मार्ग को बहाल करते हुए बीआरओ के डोजर 24 किमी दूर गुलाबा जा पहुंचे है। गुलाबा पर्यटन स्थल तीन महीने बाद बर्फ की कैद से मुक्त हुआ है। सर्दियों में हुई भारी बर्फबारी से मनाली लेह मार्ग में बर्फ की मोटी परत बिछी हुई है। बीआरओ 1 मार्च को सड़क बहाली शुरू करता था लेकिन इस बार खराब मौसम के चलते बीआरओ समय पर मार्ग बहाली शुरू नही कर पाया है।

बीआरओ का दावा है कि हालांकि वो खराब मौसम के कारण सड़क बहाली शुरू करने में थोड़ा लेट हुए है लेकिन सड़क बहाली समय पर की जायेगी। हालांकि इस बार सैलनियो को बर्फ के दिदार करने को दिक्कत नही होगी लेकिन मनाली आने वाले सैलानियो की पसंद हमेशा रोहतांग ही रहा है।

बीआरओ ने सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण मनाली लेह मार्ग की बहाली युद्धस्तर पर शुरू कर दी है। बीआरओ की प्राथमिकता लाहुल घाटी को कुल्लु से जोड़ने की है। इसके लिए बीआरओ को 13050 फीट ऊंचे रोहतांग दर्रे को बहाल करना है। बीआरओ ने रोहतांग दर्रे को दोनों ओर से चढ़ाई के दी है। मनाली से गुलाबा जबकि सिसु  से भी डोजर कोकसर की ओर बढ़ गए है। बीआरओ द्वारा लाहुल घाटी में सड़क बहाली शुरू करने से लाहुल के लोगो को भी राहत मिली है।

बीआरओ 70 आरसीसी ने मुख्य सड़क मनाली लेह मार्ग बहाली शुरू की है जबकि 94 आरसीसी ने घाटी के अंदर सड़क बहाली शुरू की है। बीआरओ 94 आरसीसी ने उदयपुर से तांदी की ओर बर्फ हटाते हुए 26 किमी दूर उदयपुर से जहलमा तक सड़क बहाल कर ली है। उदयपुर तांदी सड़क के बहाल होते ही पटन घाटी के हजारो लोगो को राहत मिल जाएगी।

बीआरओ कमांडर लेफ्टिनेंट कर्नल उमा शंकर ने बताया की बीआरओ  ने सड़क बहाली को शुरू कर दिया है। समय पर सभी सडके बहाल कर ली जाएगी। बीआरओ शीघ्र ही गुलाबा में पूजा पाठ कर जवांनो का मनोबल बढ़ाएगा।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here