दवा के लिए मांगे पैसे, पति ने दिया तलाक

0
16

हापुड़ : उत्तर प्रदेश के हापुड़ में एक महिला को तलाक देने का मामला सामने आया है। महिला ने दवा खरीदने के लिए अपने पति से 30 रुपये मांगे थे, लेकिन उसने पैसों की जगह उसे तलाक ही दे दिया। आपको बता दें कि घटना दो दिन पहले की है। हापुड़ के डी.एस.पी. राजेश सिंह ने कहा कि महिला की शिकायत पहले ही दर्ज की जा चुकी है।

तीन साल पहले हुआ था निकाह
महिला ने अपनी शिकायत में कहा कि तीन साल पहले उसका निकाह हुआ था और उसके पति ने बच्चों को अपने पास रखकर उसे घर से निकाल दिया। उन्होंने कहा, “मैंने दवाई खरीदने के लिए 30 रुपये मांगे और मेरे पति ने मुझ पर चिल्लाना शुरू कर दिया। उसने तीन बार तलाक कहा और उसके परिवार के सदस्यों ने मुझे घर से बाहर निकाल दिया।”

अभी हाल ही में सरकार ने मुस्लिम महिला (विवाह पर अधिकारों का संरक्षण), विधेयक, 2019 पास किया है जिसके तहत अपनी पत्नी को तलाक देने वाले व्यक्ति को तीन साल तक की सजा का प्रावधान है। कई महिलाओं ने पुलिस के साथ शिकायत दर्ज की है कि उनके पति द्वारा इस्लामिक कानून का उपयोग करके तलाक दिया गया है जो एक पति को तलाक शब्द का उच्चारण करके विवाह को रद्द करने की अनुमति देता है। तीन बार, यहां तक कि संसद ने विधेयक पारित किया और अब यह कानून भी बन गया है।

गाजियाबाद में स्पीड पोस्ट के जरिये दिया था तलाक
सीतापुर में एक महिला ने इस महीने की शुरुआत में आरोप लगाया था कि तलाक का मामला वापिस लेने से इनकार करने पर उसके ससुराल वालों ने उसकी नाक काट दी थी। ऐसा ही एक और मामला गाजियाबाद में सामने आया था, जहां एक महिला को उसके पति ने स्पीड पोस्ट के ज़रिये तलाक दे दिया था। वहीं मुजफ्फरनगर की एक और महिला को उसके पति ने व्हाट्सएप के जरिये तलाक दे दिया था, जो कुवैत में एक मजदूर के रूप में काम करता है।