धर्मशाला पहुंचे शिवराज सिंह, कहा, कांग्रेस ने देश को बर्बाद करने का किया काम

0
30

धर्मशाला (मनोज धीमान): भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं मध्यप्रदेश के पूर्व सी.एम. शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि वह सदस्यता अभियान के समापन पर हिमाचल आए हैं। वह दो माह से देशभर के विभिन्न हिस्सों के प्रवास पर थे। उन्होंने कहा कि देवभूमि और वीरभूमि हिमाचल में आकर वह खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। साथ ही साथ ये भी कहा कि कांग्रेस ने अपने शासनकाल में देश को बर्बाद करने का ही काम किया है । यहां तक कि सैन्य साजोसामान की खरीद में भी गड़बड़ी की।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने कश्मीर से धारा 370 हटाई है, इसके बाद से कांग्रेस परेशान है। पहले कांग्रेस यह बताए कि जब कश्मीर का विलय हुआ तब 370 की शर्त नहीं थी तो बाद में कहां से आई? जब कबाइलियों को भारतीय सेना खदेड़ रही थी और पूरा कश्मीर भारत के पास होते हुए भी क्यों युद्ध विराम करवाया नेहरू ने? इतने वर्षों से 370 की आड़ में कुछ नेताओं ने अपने घर भरे और वहां की आम जनता को दरकिनार कर दिया। कई वर्षों की लड़ाई को मोदी और शाह ने 48 घण्टे में खत्म कर दिया। अब बात पी.ओ.के. को लेकर होगी।

बिखर रही है कांग्रेस

सोनिया, राहुल और प्रियंका गांधी 370 पर जनता के बीच अपनी बात रख ही नहीं पाए हैं जबकि कांग्रेस के ही कई नेता इसका स्वागत कर चुके हैं। तीन तलाक पर भी लगभग कुछ ऐसी ही स्थिति है। आज कांग्रेस बिखर रही है। भाजपा सत्ता प्राप्त करने के लिए नहीं बल्कि देश को जोड़ने का काम कर रही है और इसलिए ही सदस्यता अभियान शुरू किया है। समाज के हर वर्ग को हम जोड़ेंगे। जाती, धर्म सम्प्रदाय के अलावा विभिन्न प्रोफेशनल को भी भाजपा के साथ जोड़ा जा रहा है। राष्ट्र निर्माण के मोदी के महा अभियान में हर भारतीय को जोड़ा जा रहा है। इसमें हिमाचल इकाई बेहतरीन काम कर रही है। आज शाम तक हिमाचल में 10 लाख नए सदस्य भाजपा के साथ जुड़ जाएंगे।

कश्मीरी लड़कियां हमारी बेटियां हैं और पूरे देश की बेटियां हैं। उन्हें भी इज्जत और मान सम्मान उसी तरह मिलेगा जिस तरह देश की अन्य बेटियों को मिलता है। कांग्रेस ने वंशवाद, परिवारवाद को बढ़ावा दिया। नेहरू के बाद इंदिरा, उसके बाद राजीव, उसके बाद सोनिया, फिर राहुल और फिर अब प्रियंका सब कुछ एक ही परिवार के इर्द-गिर्द घूम रहा है। लोकसभा चुनाव में हार मिली तो राहुल खुद इस्तीफा देकर भाग गए। नया अध्यक्ष बनने की बारी आई तो फिर से सोनिया को अध्यक्ष बना दिया।