बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ पर हरियाणा को मिला राष्ट्रीय पुरस्कार

0
14
haryanamanoharlal

नई दिल्ली : हरियाणा उन राज्यों में आता था जहां बेटियों को पढ़ने का मौका नहीं दिया जाता था व उनकी छोटी उम्र में ही शादी करवा दी जाती थी।

जी हां, हरियाणा वही राज्य है जहां बेटियों को बचपन में मार दिया जाता था, लेकिन इसी हरियाणा में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के अभियान के बाद काफी सुधार आया है और अब हरियाणा सरकार ने लड़कियों की पढाई व उनकी सुरक्षा के ऊपर काफी ध्यान भी दिया है। इसी अभियान के चलते हरियाणा काफी आगे बढ़ा है। हरियाणा को लिंगानुपात में शानदार प्रदर्शन के लिए राष्ट्रीय पुरस्कारों में सर्वश्रेष्ठ राज्य की श्रेणी में स्थान मिला है। शुक्रवार को दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने पुरस्कार दिया।

हरियाणा, उत्तराखंड, दिल्ली, राजस्थान और उत्तर प्रदेश को लिंगानुपात के लिए राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। इसके अलावा 9 अन्य राज्य है जिन्हें लिंगानुपात पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। इनमें अरुणाचल प्रदेश के पूर्वी कामेंग, हरियाणा के महेंद्रगढ़ और भिवानी, उत्तराखंड के उधम सिंह नगर, तमिलनाडु के नमक्कल और महाराष्ट्र के जलगांव जिले शामिल हैं।

कार्यक्रम के दौरान दस जिलों को उनके अच्छे काम व जागरूकता फैलाने के समक्ष पुरुस्कार से सम्मानित किया गया। महिला और बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने इस अवसर पर कहा कि देश ने पिछले 5 वर्षों में 918 से 931 तक राष्ट्रीय लिंगानुपात में उल्लेखनीय 13 अंक की छलांग लगाई है।