72 लाख के ठगी के मामले में 5 लोग गिरफ्तार

0
102

हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले के रामपुर में 72 लाख रुपए की ऑनलाइन ठगी का मामला 2018 की मई महीने में सामने आया था, इस सिललिसे में अब शिमला पुलिस के हाथ बहुत बड़ी कामयाबी हाथ लगी है, शिमला पुलिस ने हरियाणा के गुरुग्राम और उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद से एक लड़की समेत 5 लोगों की गिरफ्तारी की है।

यह ठगी इंश्योरेंस के नाम पर हुई थी, इस मामले के कुछ आरोपी इंश्योरेंस कंपनी के कॉल सेंटर में काम करते थे, शिमला पुलिस आरोपियों को पकड़कर रामपुर लेकर आई है और इसकी पुष्टि रामपुर के डीएसपी अभिमन्यु ने की।

मई 2018 में पुलिस के पास गौरा निवासी देशलाल ने रामपुर पुलिस के पास इस संबंध में शिकायत दर्ज करवाई थी, देशलाल रिटार्यड टीचर हैं, शातिरों ने देशलाल से वर्ष 2013 से ही पैसे ऐंठने शुरू कर दिए थे, ठगी का यह सिलसिला 5 साल तक चलता रहा, इसका पता जबतक चलता तबतक देशलाल 72 लाख रुपए लुटा चुके थे, यह पूरा फ्रॉड इंश्योरेंस से संबंधित था।

इस मामले के कुछ आरोपी इंश्योरेंस कंपनी के कॉल सेंटर में काम करते थे, वहीं से पीड़ित का डाटा चोरी किया गया था, कभी प्रीमियम के नाम पर तो कभी हॉलीडे पैकेज तो कभी पॉलिसी की मैच्योरिटी के नाम पर पैसे ऐंठे गए, पुलिस के सामने इस केस को सुलझाना बहुत बड़ी चुनौती थी, क्योंकि सभी बैंक खाते फर्जी नाम से खोले गए थे और सिम कार्ड भी फर्जी नाम से लिए गए थे।

पुलिस ने सबसे पहले सभी बैंक खाते खंगाले और पूरी कॉल डिटेल निकाली, पीड़ित ने चार अलग-अलग खातों में पैसे जमा करवाए थे, यूपी और हरियाणा में बैंक के खाते थे, इन बैंक खातों में रामपुर के एक्सिस बैंक से पैसे जमा करवाए गए थे।

बैंक के अधिकारी अनिल शर्मा से पुलिस को काफी मदद मिली, पैन कार्ड और दूसरी आईडी में भी फर्जी जानकारी दर्ज थी, लेकिन एक आरोपी की फोटो सही निकली, पुलिस की टीम तीन बार दिल्ली और हरियाणा की तरफ जांच के लिए गई। बैंक कर्मियों से पूछताछ और कॉल डिटेल के साथ-साथ फोटो के जरिए पहला आरोपी पुलिस के हाथ लगा, हरियाणा के रोहतक के रहने वाले प्रवीण से कड़ी पूछताछ के बाद अन्य आरोपी पकड़ में आए, चौथे प्रयास में पुलिस की टीम ने इस गैंग के अन्य साथियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल किया।

इस ठगी को अंजाम देने वाला नोएडा निवासी का नाम गुरूचरण सिंह है, इसकी उम्र 28 साल है और वह ग्रेजुएशन कर चुका है, इसके दो भाई दुष्यंत और दीपक भी इस ठगी में शामिल रहे, दिल्ली के त्रिलोकपुरी की रहने वाली 25 साल की लड़की भी इस ठगी में बराबर की हिस्सेदार रही।

रामपुर के डीएसपी ने बताया कि इस ऑपरेशन में एसआई कर्मचंद, एसएचओ रीजेंद्र नेगी सहित अन्य पुलिसकर्मियों ने अहम भूमिका निभाई है, इन आरोपियों से पूछताछ जारी है और अभी राज खुलने बाकी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here