डेरा बाबा नानक पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, आज होगा करतारपुर गलियारे का उद्घाटन

0
246
modi

चंडीगढ़: देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज शनिवार सुबह पंजाब के सुल्तानपुर लोधी पहुंचकर सबसे पहले गुरुद्वारा बेर साहिब में माथा टेका जिसके बाद वह गुरदासपुर में स्थित डेरा बाबा नानक गए। डेरा बाबा नानक में माथा टेका। इसके बाद मोदी एक रैली को संबोधित करेंगे और फिर एक बजे करतारपुर गलियारे का उद्घाटन किया जाएगा। सिख श्रद्धालुओं की पिछले लंबे समय से यह मांग थी कि उन्हें करतारपुर साहिब में स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब के दर्शन करने के लिए पाकिस्तान जाने की अनुमति मिले। इस गलियारे का उद्घाटन हो जाने के बाद श्रद्धालुओं की यह मांग पूरी हो जाएगा।

आज शनिवार को करीब एक बजे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत की सीमा पर जबकि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पाकिस्तान की सीमा पर करतारपुर गलियारे का उद्घाटन करेंगे। इस गलियारे का उद्घाटन करने के बाद मोदी भारत के पहले जत्थे को पाकिस्तान के लिए रवाना करेंगे जहां यह जत्था करतारपुर गलियारे के उद्घाटन समारोह में शामिल होगा। भारत की ओर से जाने वाले इस पहले जत्थे में पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू समेत कई गणमान्य व्यक्ति शामिल हैं। इस जत्थे में करीब 550 श्रद्धालु पाकिस्तान जा रहे हैं।

modi

सिखों के पहले गुरू श्री गुरू नानक देव जी का 550वां प्रकाशोत्सव 12 नवंबर को आ रहा है और आज 9 नवंबर को करतारपुर गलियारे का उद्घाटन किया जा रहा है ताकि श्रद्धालु करतारपुर स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब जा सकें। इन दो दिनों के लिए भारतीय श्रद्धालुओं से पाकिस्तान कोई फीस नही वसूलेगा। इससे पहले कल पाकिस्तान ने कहा था कि वह 9 नवंबर को पाकिस्तान जाने वाले श्रद्धालओं से 20 डॉलर करीब 1460 रुपए वसूलेगा। इसके बाद पाकिस्तान न यह फीस न लेने का फैसला लिया। फीस से राहत सिर्फ इन दो दिनों के लिए ही है। इसके बाद करतारपुर साहिब स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब जाने वाले भारत के हर श्रद्धालु से पाकिस्तान ने 1460 रुपए फीस के तौर पर लेने का फैसला किया है। भारत और पाकिस्तान में हुए समझौते के अनुसार प्रतिदिन 5000 भारतीय श्रद्धालुओं को गुरुद्वारा दरबार साहिब जाने की इजाजत होगी। इस गुरुद्वारा साहिब में गुरू नानक देव जी ने अपने जीवन के अंतिम 18 साल व्यतीत किए थे।